नगर का कचरा बना मुसीबत: किसानों का आरोप- खेत हो रहे बर्बाद, अध्यक्ष बोली- समाधान निकालने का कर रहे प्रयास

MP

डिंडौरीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

नगर परिषद पिछले कई महीनों से नगर का एकत्रित होने वाले कचरा को फेंकने के लिए जगह चयनित नहीं कर पाई है। पिछले कई दिनों से जबलपुर-अमरकंटक नेशनल हाईवे के बगल में खाली पड़ी जमीन पर कचरा फेंक रहे है। वह कचरा सड़क में और खेत में फैल रहा है। लिहाजा अब किसान भी कचरा फेंकने का विरोध कर रहे है। सोमवार को किसानों ने कचरा नहीं फेंकने दिया। अध्यक्ष जल्दी ही स्थाई समस्या का समाधान ढूढने का आश्वासन दे रही है।

नगर के कचरे से खेत हो रहे बर्बाद

डिंडौरी नगर परिषद के कचरा वाहन पिछले कई दिनों से नगर का कचरा जेल बिल्डिंग के पीछे खाली जगह पर फेंक रहे है। वो कचरा अब खेतों में जा रहा है और सड़क के ऊपर तक आया गया। कचरे की सड़न के चक्कर मे बदबू फैल रही है। किसान गुलाब सिंह, राम सिंह, गणेश सिंह ने बताया कि हमारे लगभग साढ़े तीन एकड़ खेत में धान की फसल लगी है।

इनके कचरा फेंकने से नाला जाम हो गया। पन्नी, प्लास्टिक हमारे खेतों में आ रही है। वहीं पन्नी मवेशी खा रहे है। इससे वो बीमार होंगे। कचरा अब सड़क के ऊपर तक फैल रहा है। कई बार मना करने के बाद भी कर्मचारी मानने को तैयार नहीं है। आए दिन विवाद करते है।

कर्मचारी बोले- हम तो आदेश का पालन कर रहे

नगर के 15 वार्डों से वाहन से कचरा लेकर आए दरोगा विजय का कहना है कि पिछले कई महीनों से कचरा फेंकने की जगह का चयन नहीं हो पा रहा है। जोगी टिकरिया गांव के लोगों ने विवाद करके भगा दिया।अब यहां भी विवाद हो रहा है। अधिकारियों से उम्मीद है कि जल्द कोई रास्ता निकालेंगे।

अध्यक्ष बोली- दो तीन दिन में निकल जाएगा समाधान

नगर परिषद अध्यक्ष सुनीता सारस का कहना है कि जिला प्रशासन और नगर परिषद ने जोगी टिकरिया गांव की पहाड़ी में कचरा फेंकने और उसे नष्ट करने के लिए प्लांट बनवाया था, लेकिन वहां ग्रामीण विरोध कर रहे है। वैकल्पिक व्यवस्था के तहत जेल बिल्डिंग के पीछे कचरा फेंका जा रहा था। वहां भी विवाद हो रहा है। अधिकारियों से बात कर जल्दी ही समाधान ढूढने का प्रयास कर रहे है।


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *