मूसेवाला के पिता की दो ब्रिटिश सांसदों से मुलाकात: MP गिल और ढेसी ने परिवार को दिया समर्थन, बरसी पर जारी हो सकता होलोग्राम

Punjab

लुधियाना41 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
ब्रिटिश सिख सांसद प्रीत कौर गिल और तनमनजीत सिंह ढेसी से मुलाकात करते मूसेवाला के पिता बलकौर सिंह। - Dainik Bhaskar

ब्रिटिश सिख सांसद प्रीत कौर गिल और तनमनजीत सिंह ढेसी से मुलाकात करते मूसेवाला के पिता बलकौर सिंह।

पंजाबी गायक स्व.शुभदीप सिंह सिद्धू मूसेवाला के पिता बलकौर सिंह ब्रिटेन गए हुए है। वहां उन्होंने दो ब्रिटिश सिख सांसद प्रीत कौर गिल और तनमनजीत सिंह ढेसी से मुलाकात की। दोनों सिख सांसदों ने बलकौर सिंह को मूसेवाला की मौत के बाद न्याय की लड़ाई में परिवार का साथ देने का वादा भी किया। पता चला है कि मूसेवाला के पिता विदेश में सिद्धू का होलोग्राम तैयार करवा रहे है। उम्मीद है मूसेवाला की 29 मई को बरसी पर ये होलोग्राम उनके समर्थकों के बीच आ सके।

उधर, गांव मूसा गांव में रक्तदान शिविर और कैंडलमार्च का भी आयोजन किया जा रहा है। दोनों कार्यक्रमों में बड़ी संख्या में मूसेवाला के समर्थकों के पहुंचने की संभावना है। गायक के माता-पिता और उनके प्रशंसक उनकी हत्या की ‘धीमी जांच’ से परेशान हैं। उसके माता-पिता का कहना है कि एक साल बीत चुका है, लेकिन वे अब भी न्याय का इंतजार कर रहे हैं।

मूसेवाला के चाचा चमकौर सिंह ने कहा कि पंचायत द्वारा मूसा गांव में एक रक्तदान शिविर आयोजित किया जाएगा और 29 मई को मारे गए गायक को श्रद्धांजलि देने के लिए मनसा में एक कैंडल मार्च निकाला जाएगा।

मूसेवाला की मां चरण कौर ने कहा कि बेटे की मौत को एक वर्ष हो चुका है। हालांकि हमें कोई उम्मीद नहीं है, हम न्याय की प्रतीक्षा कर रहे हैं। शुभदीप के पिता एक होलोग्राम तैयार करने के लिए विदेश गए हैं, जो जल्द ही पेश किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि जब तक सिद्धू मूसेवाला की हत्या के हत्यारों और साजिशकर्ताओं को सजा नहीं मिल जाती, न्याय के लिए हमारी लड़ाई जारी रहेगी। उनकी हत्या एक बड़ी साजिश का हिस्सा है। इसलिए, सभी साजिशकर्ताओं के चेहरों का पर्दाफाश करना महत्वपूर्ण है। चरण कौर ने कहा कि उन्हें अपने बेटे पर गर्व है, जिसने अपना नाम कमाया और दुनिया भर के लोगों का प्यार उसे मिला।

गांव जवाहर में गैंगस्टरों ने उतारा था मौत के घाट
मूसेवाला की पिछले साल 29 मई को मनसा जिले के जवाहरके गांव में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वह थार चला रहा था जब छह हमलावरों ने उसे रास्ते में रोक लिया और उसे गोलियों से छलनी कर दिया।

फॉरेंसिक जांच के बाद पुलिस ने खुलासा किया था कि 7 गोलियां सीधे मूसेवाला को लगी थी। इनमें से 1 पूरी और 1 आधी बुलेट उनके शरीर से मिली थी। मूसेवाला जिस थार से जा रहे थे, उस पर कुल 25 फायर लगे। हालांकि कुछ फायर आस-पास दीवारों, घरों और खेतों में भी मिले हैं।

स्पष्ट है कि शार्पशूटर्स ने मूसेवाला पर अंधाधुंध फायरिंग की। मूसेवाला की मौत फेफड़ों और लीवर में गोली लगने से हुई। मामले की जांच अभी भी जारी है। इस संबंध में कुछ गिरफ्तारियां की गई लेकिन हाल ही में इस मामले के दो आरोपी गोइंदवाल साहिब जेल में हुई झड़प में मारे गए और दो पुलिस मुठभेड़ में मर गए थे।

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *